यदि खाना खाते ही सो जाते हैं, तो भुगतने होंगे गम्भीर परिणाम

National News Room

आज की भागती−दौड़ती जिन्दगी में किसी के पास इतना भी वक्त नहीं है कि वह दो पल बैठकर सुकून से भोजन कर सके। कुछ लोग देर रात तक ऑफिस में काम करते हैं और घर आकर खाना खाकर तुरंत सो जाते हैं। वहीं महिलाओं को भी दिन में सोने की आदत होती है और वह भी दोपहर का खाना खाकर कुछ देर सोती हैं। अगर आप भी ऐसा ही कुछ करते हैं तो समझ लीजिए कि आप खुद को गंभीर रूप से बीमार कर रहे हैं। आपके भोजन और नींद के बीच में कम से कम दो घंटे का गैप अवश्य होना चाहिए। तो चलिए जानते हैं भोजन करने के तुरंत बाद सोने से होने वाले नुकसानों के बारे में−

जब आप भोजन करते हैं और उसके बाद तुरंत सो जाते हैं तो इससे भोजन सही तरह से नहीं पच पाता। जिससे अपच व अन्य पाचन संबंधी समस्याएं शुरू हो जाती है। वहीं भोजन को पचाने के लिए आंत एसिड बनाता है, लेकिन अगर आप खाने के बाद तुरंत सो जाते हैं तो ये एसिड पेट से निकल कर फूड पाइप और फेफड़ों के हिस्से में पहुंच जाता है, जिससे व्यक्ति को पेट में जलन और एसिडिटी की समस्या होती है। 

बढ़ता कमर का घेरा:

अगर आपको रात में भोजन करने के तुरंत बाद सोने की आदत है तो समझ लीजिए कि आपका वजन कभी भी कम नहीं होने वाला। दरअसल, खाने के बाद सोने की आदत से भोजन को पचने में परेशानी होती है, जिससे बचा हुआ भोजन पेट में फैट के रूप में स्टोर होने लगता है और वजन धीरे−धीरे बढ़ने लगता है। इतना ही नहीं, पेट में खाना जमा होने पर पाचन धीरे हो जाता है और मेटाबॉलिज्म भी कमजोर हो जाता है। इसलिए कोशिश करें कि आप सोने से कम से कम दो घंटे पूर्व भोजन कर लें और अगर संभव हो तो भोजन के बाद कुछ देर अवश्य टहलें।

स्लीप समस्याएं:

जो लोग भोजन के बाद तुरंत सो जाते हैं, उन्हें कई तरह की स्लीप संबंधी परेशानियां भी शुरू हो जाती है। दरअसल, जब आप भोजन करने के बाद लेटते हैं तो इससे आपको पेट में भारीपन लगता है और नींद आने में परेशानी होती है। वहीं अगर व्यक्ति सो भी जाता है तो भी पेट में भारीपन के कारण उसकी नींद बार−बार टूटती है। नियमित रूप से ऐसा होने पर स्लीप समस्याएं शुरू हो जाती हैं।

 हो सकती है मधुमेह :

खाना खाने के बाद शरीर में ग्लूकोज का लेवल बढ़ जाता है। लेकिन खाना खाने के तुरंत बाद सोने से शुगर बॉडी में यूज नहीं हो पाता और ज्यादा शुगर ब्लड में घुलने लगता है। जिसके कारण व्यक्ति को मधुमेह होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।

Leave a Reply