उत्तराखंड में 31 मार्च तक हुआ लॉक डाउन, पढ़िये खबर

Breaking News Uttrakhand

देहरादून। रविवार को देशभर में जनता कर्फ्यू लगाया गया इसी के बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आगामी 31 मार्च तक प्रदेश में लॉ़क डाउन घोषित कर दिया है।पुलिस विभाग और अन्य अधिकारियों की आपात बैठक कर उन्होंने ये फैसला लिया। उनका कहना है  कि आपात सेवाएं और खाद्य आपूर्ति सुचारू रहेंगी। उत्तराखंड के साथ ही अन्य कई राज्यों से लॉक डाउन की खबरें सामने आ रही हैं।

trivendra-singh-rawat-1

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने की जनता से अपील

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि जिस तरह से प्रदेश की जनता ने पीएम की अपील को माना और उस पर अमल किया उससे मुझे यकीन है कि हम कोरोना वायरस से पूरी तरह से लड़ सकते हैं। डॉक्टर, कर्मचारी, व्यापारी, नगर निगम ने इसमें पूरा योगदान दिया है। हमें आने वाले समय के लिए तैयार रहना चाहिए। जनता को किसी भी तहर के जरूरी सामान की कोई किल्लत नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना वायरस से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस चुनौती से लड़ने के लिए सबके सहयोग की जरूरत है। आप बिल्कुल न घबराएं। सरकार सभी जरूरी सेवाएं जैसे कि स्वास्थ्य, सफाई , राशन, सब्जियां, फल, पेट्रोल, डीजल आदि महत्वपूर्ण आदि सुचारु रूप से उपलब्ध करवा रही है। अफवाहों पर ध्यान न दें। केवल सरकार की हिदायतों को समझें।

क्या होता है लॉकडाउन ?

लॉकडाउन एक इमर्जेंसी व्यवस्था होती है। अगर किसी क्षेत्र में लॉकडाउन हो जाता है तो उस क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है। जीवन के लिए आवश्यक चीजों के लिए ही बाहर निकलने की अनुमति होती है। अगर किसी को दवा या अनाज की जरूरत है तो बाहर जा सकता है या फिर अस्पताल और बैंक के काम के लिए अनुमति मिल सकती है। छोटे बच्चों और बुजुर्गों की देखभाल के काम से भी बाहर निकलने की अनुमति मिल सती है।

क्यों करते हैं लॉकडाउन ?
किसी तरह के खतरे से इंसान और किसी इलाके को बचाने के लिए लॉकडाउन किया जाता है। जैसे कोरोना के संक्रमण को लेकर कई देशों में किया गया है। कोरोनावायरस का संक्रमण एक-दूसरे इंसान में न हो इसके लिए जरूरी है कि लोग घरों से बाहर कम निकले। बाहर निकलने की स्थिति में संक्रमण का खतरा बढ़ जाएगा। इसलिए कुछ देशों में लॉकडाउन जैसी स्थिति हो गई है।

किन देशों में है लॉकडाउन ?
चीन, डेनमार्क, अल सलवाडोर, फ्रांस, आयरलैंड, इटली, न्यूजीलैंड, पोलैंड और स्पेन में लॉकडाउन जैसी स्थिति है। चूंकि चीन में ही सबसे पहले कोरोनावायरस संक्रमण का मामला सामने आया था, इसलिए सबसे पहले वहां लॉकडाउन किया गया। इटली में मामला गंभीर होने के बाद वहां के प्रधानमंत्री ने पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया। उसके बाद स्पेन और फ्रांस ने भी कोरोना संक्रमण रोकने के लिए यही कदम उठाया।

कब-कब हुआ लॉकडाउन ?
अमेरिका में 9/11 के आतंकी हमले के बाद वहां तीन दिन का लॉकडाउन किया गया था। दिसंबर 2005 में न्यू साउथ वेल्स पुलिस फोर्स ने दंगा रोकने के लिए लॉकडाउन किया था। 19 अप्रैल, 2013 को बोस्टन शहर को आतंकियों की खोज के लिए लॉकडाउन कर दिया गया था। नवंबर 2015 में पैरिस हमले के बाद संदिग्धों को पकड़ने के लिए साल 2015 में ब्रुसेल्स में पूरे शहर को लॉकडाउन किया गया था।

Leave a Reply