सुशांत की मौत को लेकर उनके चचेरे भाई ने उठाये गंभीर सवाल

Breaking News Entertainment

मुंबई। लॉकडाउन के कारण सुशांत सिंह राजपूत का अंतिम संस्कार आज मुम्बई में हो रहा है। पुलिस इंवेस्टिगेशन शुरू हो गया है और अभी तक सुसाइड का कोई मोटिव समझ नहीं आया है क्योंकि कोई नोट बरामद नहीं हुआ है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दम घुटने को असली वजह बताया गया है। गले पर फंदे के निशान को छोड़कर सुशांत के शरीर पर किसी घाव या चोट का कोई निशान नहीं है।

सोमवार को सुशांत के फ्लैट पर फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम पहुंची है। पुलिस पहले से ही घर पर मौजूद है। आज सुशांत के दोस्तों के बयान दर्ज किए जाएंगे। सुशांत की बहन मीतू सिंह का स्टेटमेंट भी रिकॉर्ड किया गया है। मीतू परिवार की पहली सदस्य थीं जिन्होंने सुशांत की बॉडी को लटकते हुए देखा था। इसके अलावा पुलिस अब तक 17 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। इसमें परिवार के कुछ सदस्य भी शामिल हैं।

इसी बीच, सुशांत के पूर्णिया में रहने वाले चचेरे भाई सोनू सिंह ने मीडिया सेबातचीत में दावा किया कि, सुशांत की हत्या हुई है, जो कुछ हुआ है उसे आत्महत्या कर रंग दिया जा रहा है क्योंकि वे इतने कमजोर नहीं थे। दैनिक भास्कर के पास इस बातचीत का ऑडियो क्लिप है, जिसे हम यहां सुना रहे हैं।

बकौल सोनू सिंह- ‘हमें लगता है सुशांत को उकसाया गया’

“सुशांत के पापा, बड़े भाई और भाभी तीनों सोमवार की सुबह 11:30 बजे फ्लाइट से मुंबई गए हैं। सुशांत का अंतिम संस्कार मुंबई में ही होगा। रविवार की देर रात जीजाजी गए थे। उनका नाम ओमप्रकाश सिंह है। सुशांत की हत्या हुई है आत्महत्या नहीं है यह, इसको आत्महत्या कर रंग दिया जा रहा है। ऐसा करने को, किसने उकसाया है उन्हें यह तो जांच का विषय है। वह इतना कमजोर नहीं था कि आत्महत्या कर ले। सबसे पहले जानकारी तो सुशांत के नौकर ने ही पुलिस को दी। साथ में दो नौकर और एक मैनेजर रहा करते थे।

बंगाली लड़की का हाथ है कि नहीं है या किसका है, हम किसी पर उंगली अभी तो नहीं उठा सकते, लेकिन यह जरूर है कि उन्हें उकसाया गया और तब ऐसा कदम सामने आया। भैया मुंबई गए हुए हैं डीजीपी साहब भी साथ में है। हम लोगों को प्रशासन में पूरा विश्वास है।

हम लोगों को नहीं मालूम कि वह लिव-इन में किसी के साथ रहते थे। इसमें कोई सच्चाई नहीं है कि वह किसी के साथ लिव-इन में रहते थे। सुशांत किसी के प्यार में भी नहीं थे। ऐसा नहीं है कि जिनका नाम सुशांत के साथ घसीटा जा रहा है, उन पर आरोप नहीं है। हम लोग चूंकि चश्मदीद नहीं हैं, इसलिए सीधे तौर पर आरोप नहीं लगा सकते। मगर यह जांच का विषय तो है और हमें लगता है कि सुशांत को उकसाया गया।”

Leave a Reply