ट्रम्प ने चीन पर फिर उठायी उंगली, कोरोना वायरस को लेकर किया बड़ा दावा

Breaking News International

वॉशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार को चीन पर फिर दुनियाभर में कोरोनावायरस फैलाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वायरस का वुहान इंस्टीटयूट ऑफ बायोलॉजी से कनेक्शन है। हमारे पास इसके सबूत हैं। कोरोना इसी लैब में तैयार किया गया। हालांकि, उन्होंने इस बारे में ज्यादा बताने से इनकार कर दिया। कोरोना से दुनिया में 2.30 लाख लोगों की मौत हो चुकी हैं।

व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रम्प से वायरस के वुहान लिंक को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मेरे पास इसके सबूत हैं, लेकिन मैं इसके बारे में आपको बता नहीं सकता। मुझे इसकी इजाजत नहीं है। ट्रम्प ने इस दौरान चीन पर नए टैरिफ लगाने की भी बात कही।

वायरस पर अमेरिका और चीन आमने-सामने

  • दुनिया में कोरोना से अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां 10 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं और 62 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। यही वजह है कि अमेरिका पर भारी दबाव है। अमेरिका ने पहले चीन के उस दावे को नकारा था, जिसमें कहा गया था कि कोरोना चीन के वाइल्डलाइफ मार्केट से निकला। 
  • बाद में चीन का आरोप था कि यूएस मिलिट्री ने चीन तक इस वायरस को पहुंचाया था। उधर, कुछ दिन पहले ट्रम्प ने कहा था कि हम दुनिया के सामने कोरोना का सच लेकर आएंगे।
  • अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से भी नाराजगी जताई थी। कहा था कि डब्ल्यूएचओ ने चीन का फेवर किया और दुनिया को सही जानकारियां नहीं दीं। 

ट्रम्प ने कहा- डब्ल्यूएचओ को शर्मिंदा होना चाहिए
ट्रम्प ने यह भी कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन को खुद के लिए शर्मिंदा होना चाहिए, क्योंकि उसने चीन के लिए एक जनसंपर्क एजेंसी की तरह काम किया है। दरअसल, ट्रम्प प्रशासन ने कोरोना को लेकर डब्ल्यूएचओ की भूमिका की जांच शुरू की है। साथ ही उसकी फंडिंग भी अस्थायी तौर पर रोक दी है।

कोरोना पर अमेरिका में ही विरोधाभास
यूएस इंटेलिजेंस कम्युनिटी ने गुरुवार को कहा कि कोरोनावायरस चीन से निकलकर दुनिया में फैला। इसे न इंसानों ने बनाया है और न इसे डिजाइन किया गया। हम लगातार बारीकी से जांच कर रहे हैं।

Leave a Reply