दिल्ली से दुबई वापस लौटाया उत्तराखंड के युवक का शव, जानिए पूरा मामला

Breaking News National

देहरादून। लॉकडाउन की विषम परिस्थितियों में तमाम कोशिशों के बाद दुबई से लाया गया उत्तराखंड के बेटे का शव दिल्ली एयरपोर्ट से शुक्रवार को वापस भेज दिया गया। मृतक के परिजनों के एयरपोर्ट पहुंचने से पहले ही विमान शव को लेकर वापस लौट चुका था। इस घटना से आहत परिजनों को निराश होकर वापस लौटना पड़ा। परिजनों ने सरकार से जल्द ही शव को घर भिजवाने की मांग की है।

टिहरी में धनोल्टी तहसील के सकलाना के सेमवाल गांव निवासी कमलेश भट्ट दुबई के एक होटल में नौकरी करता था। 17 अप्रैल को कमलेश की हार्ट अटैक से मौत हो गयी थी। इस घटना से आहत परिजनों ने प्रशासन और सरकार से मृतक युवक के शव को स्वदेश लाने की गुहार लगायी थी। 

लॉकडाउन की चुनौती के बीच दुबई निवासी समाजसेवी रोशन रतूड़ी के प्रयासों से 23 अप्रैल की रात को दुबई के आबूधाबी एयरपोर्ट से एक कार्गो विमान दिवंगत कमलेश के अलावा तीन अन्य शवों को लेकर नई दिल्ली एयरपोर्ट पर उतारा गया।

शव को लेने के लिए कमलेश के चचेरे भाई विमलेश भट्ट जिला प्रशासन से पास बनाने के बाद देहरादून से एंबुलेंस को बुक कर 24 अप्रैल तड़के साढ़े तीन बजे दिल्ली पहुंचे। विमलेश भट्ट ने बताया कि एयरपोर्ट पहुंचने पर उन्हें बताया गया कि गृह मंत्रालय ने रात को एक आदेश निकाला कि विदेश से आने वाले किसी भी शव को नहीं लिया जाए।

इस वजह से कमलेश के शव सहित तीनों शवों को वापस दुबई आबूधाबी एयरपोर्ट के लिए विमान से वापस लौटा दिया गया है। विमलेश का आरोप है कि भारत सरकार, विदेश मंत्रालय और दूतावास के बीच समन्वय न होने के कारण उनके भाई के शव की फजीयत हुई है।

उन्होंने राज्य और केंद्र सरकार से परिजनों की आर्थिक स्थिति को देखते हुए शव को ऋषिकेश पूर्णानंद घाट तक पहुंचाने की मांग की है। उधर, कमलेश के बुजुर्ग माता-पिता इस आस में थे कि शुक्रवार को उनके बेटे के अंतिम दर्शन होंगे। लेकिन शव वापस भेजे जाने की खबर से पजिनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

Leave a Reply