पीपीई किट पहने बिना कोरोना मरीज का उपचार कर रहे थे डॉक्टर, पॉजिटिव आयी रिपोर्ट तो मचा हड़कंप

Breaking News Uttrakhand

देहरादून। कोरोना वायरस के खतरे के बीच उत्तराखंड के कोटद्वार में बेस अस्पताल के कोरोना आइसोलेशन वार्ड में भर्ती दुगड्डा के युवक के उपचार के दौरान डॉक्टरों की लापरवाही का मामला संज्ञान में आने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा है। डाक्टरों की ओर से बिना पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) किट पहने ही स्पेन से लौटे कोरोना के संदिग्ध मरीज का सात दिन तक उपचार किया।

अब युवक के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद अस्पताल के स्टाफ से लेकर पूरे क्षेत्र में कोरोना संक्रमण की दहशत बनी हुई है। एहतियात के तौर पर युवक के उपचार में शामिल तीन डॉक्टर, चार नर्स और दो सफाई कर्मियों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन किया गया है।

स्पेन से गत 17 मार्च को दुगड्डा अपने घर लौटे 26 वर्षीय युवक को पीएचसी दुगड्डा में प्रारंभिक जांच करने के बाद 19 मार्च को बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कोटद्वार बेस अस्पताल के कोरोना आइसोलेशन वार्ड में युवक का एक सप्ताह तक इलाज किया गया, लेकिन डाक्टरों ने कोरोना के संदिग्ध मरीज को हल्के में लेते हुए बिना सुरक्षा के उपकरणों के उसका उपचार शुरू कर दिया।यही नहीं संबंधित डॉक्टर कोरोना मरीज के उपचार के बाद ओपीडी में अन्य मरीजों और अपने आवास पर भी मरीजों को देखते रहे। सात दिन तक सैकड़ों लोग इन डाक्टरों से अपना उपचार कराते रहे, लेकिन बुधवार शाम को जैसे ही युवक के कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आई, बेस अस्पताल और दुगड्डा तक क्षेत्र के लोगों में दहशत है।

मेडिकल  कॉलेज  श्रीनगर में एक और संदिग्ध भर्ती
मेडिकल  कॉलेज  श्रीनगर  के आइसोलेशन  सेंटर मे 21 वर्षीय युवती को भर्ती कराया गया है।  उक्त  युवती कुछ समय पूर्व कॉम्पिटिव  टेस्ट देने के लिए मुंबई गयी थी।  कोरोना समान लक्षण दिखाई देने पर उसे  आइसोलेशन वार्ड मे भर्ती करा दिया गया।  उसका ब्लड सैंपल भी जांच के लिए भेज दिया गया है।

स्पेन से लौटे दुगड्डा के युवक में पहले कोरोना के किसी प्रकार के लक्षण नहीं मिले थे, इसलिए डाक्टरों ने पीपीई किट को पहनकर उपचार करना उचित नहीं समझा। वर्तमान में युवक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। सुरक्षा को देखते हुए युवक के उपचार में लगे हुए डाक्टरों, नर्स और सफाई कर्मियों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन कर दिया गया है।
-डा. वीसी काला, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक, बेस अस्पताल कोटद्वार

टिहरी में अब तक 256 लोग विदेशों से लौट चुके घर

नई टिहरी में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ने के बाद टिहरी जिले में अब तक विदेशों से 256 लोग अपने घर वापस लौट चुके हैं। जिले के अलग-अलग गांव के लोग विदेशों में कार्यरत है। कोरो ना वायरस संक्रमण के बाद 14 मार्च से विदेशों में कार्यरत लोगों का अपने घर वापस लौटने का सिलसिला जारी है। चीन, जापान सहित अन्य देशों में कार्यरत जिले के 256 लोग अपने घर पहुंच चुके हैं। डीएम डॉ वी षणमुगम ने बताया कि विदेशों से लौटे जिले के किसी भी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण के लक्षण नहीं पाए गए हैं। बाहर से आने वाले लोगों की स्क्रीन करने के लिए जिले में अलग-अलग स्थानों पर आठ चेक पोस्ट बनाए गए हैं।

जहां पर स्वास्थ्य विभाग की टीम बाहर से आने वाले लोगों की स्क्रीन कर रही है। विदेशों के अलावा देशभर के अलग-अलग राज्यों में कार्य करने वाले जिले के 6268 लोग भी अपने घरों में पहुंचे हैं। विभिन्न एयरपोर्ट के अलावा जिले के चेक पोस्टों पर भी बाहर से गांव लौटे वाले लोगों की स्क्रीनिंग की गई है। प्रत्येक ग्राम सभा के ग्राम प्रधान से भी जिला प्रशासन ने बाहर से आने वाले लोगो की सूची मांगी है। कुछ गांवों में लोग बाहर से आने वाले अपने ही गांव के लोगों को शक की दृष्टि से देख रहे थे। ऐसी शिकायतें मिलने पर जिला प्रशासन ने एसडीएम और तहसीलदारों को ग्राम प्रधानों से संपर्क कर बताया कि बाहर शेगाव लौटे वाले प्रत्येक व्यक्ति की जिले की चेकपोस्ट पर स्क्रीनिंग करने के बाद ही उन्हें गांव लौटने की अनुमति दी जा रही है। 

Leave a Reply