नन्हे बच्चों की प्रस्तुतियों ने किया मंत्रमुग्ध

News Room Uttrakhand

देहरादून। लक्ष्य यूनिवर्सल अकैडमी में मातृ दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। उक्त कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर श्री पंवार उपस्थित रहे। स्कूल के छात्रों ने कार्यक्रम में उत्साह से भाग लिया गया। इस दौरान बच्चों ने कविता पाठ किया जिसने सभी का मन मोह लिया। छोटे बच्चों द्वारा मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया गया, जिसे देखकर दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए। इस अवसर पर छोटे बच्चों द्वारा अपनी माताओं को मातृ दिवस के ग्रीटिंग कार्ड्स भेंट किये गए, जिन्हें बनाने में अध्यापकों ने छात्रों की सहायता की।

कुछ छात्रों के द्वारा कार्यक्रम में भाषण भी प्रस्तुत किये गए। उक्त सभी प्रस्तुतियां माताओं को समर्पित रहीं। बच्चों का ये समर्पण और अपने प्रति प्रेम देख अभिभावक अपने संवेगों को नहीं रोक पाए। इस दौरान उनकी खुशी और संवेदना साफ देखी जा सकती थी। छात्रों की प्रस्तुतियां माताओं के लिए मातृ दिवस का पुरस्कार रूप थी और हो भी क्यों न माँ अपना सारा जीवन बच्चों पर समर्पित जो कर देती है।

इसी को मद्देनजर रखते हुए विद्यालय द्वारा अभिभावकों के सम्मान के तौर पर एक खेल कार्यक्रम भी आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों व दर्शकों को यह बताना था कि माँ किसी भी व्यक्ति के जीवन में सर्वोच्च स्थान रखती है। मां बच्चों के लिए मार्गदर्शक का कार्य करती है। बिना मां के जीवन की कल्पना करना असंभव प्रतीत होता है। इसलिए माता का स्थान ईश्वर से भी कुछ माना जाता है।

मां हमारे लिए जीवन पर्यंत इतना सब करती है और हम मां को कुछ नहीं दे पाते। वैसे तो मातृ ऋण को चुकाने के लिए यह जीवन पर्याप्त नहीं परंतु फिर भी यदि हम मातृ दिवस के तौर पर एक दिन मां को समर्पण करें तो यह हमारा सौभाग्य ही होगा। कार्यक्रम के अंत में प्रधानाचार्य श्रीमती मिनी त्रिपाठी द्वारा अभिभावकों को संबोधित किया गया। जिसमें अभिभावकों को स्कूल की दिनचर्या व छात्रों के कौशल विकास के लिए किए जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला गया। साथ ही अभिभावक किस प्रकार बच्चों का सर्वांगीण विकास करने में योगदान करें, इस बात पर भी विचार किया गया। इसके साथ ही कार्यक्रम में अध्यापकों का मार्गदर्शन भी किया गया।

Leave a Reply