कर्म

Poems

कर्म करो
फल की इच्छा…….
अरे रूको मैं-
इंसान हूँ साधारण,
योगी या भगवान नहीं,

कर्म नहीं किया तो
फल कहाँ से
आएगा ,
फल की इच्छा ना की तो
राशन कहाँ से आएगा ?
मकान का किराया,
बिजली का बिल,
बच्चो की स्कूल की
फीस, किताबों के खर्चे,
और वो बीमार माँ,
मधुमेह के रोगी बाबा,
कर्म नहीं किया तो
कहाँ से पूरा होगा खर्चा?

Leave a Reply