Breaking News Uttrakhand

गंगा सफाई के नाम पर बर्बाद हो रहा करोड़ों रूपया, लगा है गंदगी का अंबार

हरिद्वार। गंग नहर सूखने के बाद ही पता चलता है, कि गंगा सफाई के नाम पर करोड़ो रूपया आखिर कहां जा रहा है। जब करोड़ों रूपया सरकार गंगा की सफाई पर हर साल खर्च कर रही है, तो गंगा नहर सूखने के बाद इतनी गंदगी आखिर क्यों नजर आती है। गंगा सफाई अभियान के नाम से समाज को जागरूक करने वाले संगठन आखिर क्या कर रहे हैं।

कुछ संगठन हर हफ्ते गंगा सफाई का अभियान चलाते आ रहे हैं, फिर भी गंगा में गंदगी के अंबार लगे हुए हैं, आखिर ये गंदगी कहां से आ रही है। यह गंदगी आम समाज में से ही तो नहरो और नदियों में गंदगी डाली जा रही है। आखिर नहरों नदियों में इतनी गंदगी डाली जा रही है, जिसके परिणाम आम समाज को आगे चलकर भुगतने पड़ेंगे।

इसलिए सब कुछ सरकार के ऊपर ही ना छोडना चाहिए, कुछ कर्त्तव्य देश व समाज हित में आम जनमानस के भी है। इसलिए आंखों को खोल और स्वच्छ भारत, स्वच्छ गंगा, स्वच्छ वातावरण को बनाने में सहयोग करें। प्रकृति के साथ छेड़छाड़ करने के बड़े दुष्कर्म परिणाम सामने आने की पूरी पूरी संभावना नजर आने लगी है।

दुनिया पहले से बारूद के ढेर पर नजर आ रही है, पूरी दुनिया में बहुत से ऐसे देश हैं जो परमाणु सम्पन्न हैं। पूरी दुनियां के अंदर बहुत से देशों में आपसी तनाव चल रहा है। बल्कि दो देशों के दरमियान तो भयंकर युद्ध चल रहा है। जिस कारण से मानव जाति और प्रकृति को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है। इसलिए प्रकृति के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए।

Leave a Reply