ik taara from RadhikaSpeaks.com

इक तारा

Poems

इक तारा टूटा
मैने माँग ली
खुशियाँ,
मगर मैं भूल
गयी थी मेरी
खुशी तो तुम
हो, और तुम
ही मेरे नहीं थे.

राधिका

Leave a Reply