हिसाब नाकामियों का

मत पूछो मेरी नाकामियों का हिसाब,
बस इतना समझ लो
के तुम न आते मेरी जिंदगी में,
जिंदगी का ये हाल न होता।

लोग अब भी किया करते है
जिक्र तुम्हारा,
और चेहरे पे मेरे,
टिका लेते है निगाहें,
क्या अब भी पूछोगे हाल मेरा?

बस अब तो कट ही गया है
सफर , कभी हिसाब नहीं मांगा
नाकामियों से अपनी,

मेरे हिस्से जो भी आया,
खुशी से उसको सीने से लगाया,
और मेरी नाकामियों ने मुझे
फर्श से अर्श तक पहुँचा दिया।

राधिका

Leave a Reply