Poems

वो जो शाम गुजरी तुम्हारे संग बड़ी अच्छी सी शाम थी। सोचा था पता नहीं कैसे सामना होगा तुमसे, कैसे तुमसे बातें करेंगे। क्या हम... Read More...
बस कह दिए, बड़े मजबूत हो तुम, ऐसे ही रहना, कांधा थपथपा के चल दिए, सिक्के के एक ही पहलू को देख खुश हो लिए.... Read More...