अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले को लेकर भावना पांडे ने जताया रोष, हत्यारोपियों को फांसी देने की मांग की

Breaking News News Room Uttrakhand

देहरादून। देवभूमि की बेटी, वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी एवं जनता कैबिनेट पार्टी (जेसीपी) की केंद्रीय अध्यक्ष भावना पांडे ने अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले को लेकर रोष जताया है साथ ही हत्यारों को फांसी दिये जाने की मांग की है।

गौरतलब है कि 19 साल की अंकिता भंडारी कुछ दिन पहले लापता हो गई थी। वह एक रिसॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट के तौर पर काम करती थी। इस मामले में रिसॉर्ट मालिक पुलकित आर्य समेत 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलकित आर्य भाजपा नेता का बेटा बताया जा रहा है। आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में अंकिता को नहर में धक्का देने की बात कबूल की है।

इस पूरे प्रकरण पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए राज्य आंदोलनकारी भावना पांडे ने कहा कि वे पिछले काफी समय से आवाज़ उठा रही हैं कि उत्तराखंड में बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। देवभूमि में बाहरी राज्यों से आये लोगों की वजह से अपराध बढ़ रहा है। आज प्रदेश की महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस कर रहीं हैं। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि प्रदेश में जितने भी अवैध स्पा, होम स्टे और रिसोर्ट संचालित किये जा रहे हैं उन्हें तत्काल बन्द किया जाए।

उत्तराखंड की बेटी भावना पांडे ने कहा कि आज एक बार फिर देवभूमि शर्मसार हुई है। राज्य में निर्भया कांड जैसा गंभीर अपराध हुआ है। उन्होंने निर्भया के दोषियों की तरह ही अंकिता के हत्यारों को भी फांसी की सज़ा दिये जाने की मांग की है। उन्होंने सरकार व न्यायालय से मांग करते हुए कहा कि इस मामले को लंबा न खींचकर शीघ्र ही गुनहगारों को सज़ा दी जाए।

जेसीपी अध्यक्ष भावना पांडे ने कहा कि बड़े ही शर्म की बात है कि देवभूमि में बेटियों के साथ इस तरह के अपराध घटित हो रहे हैं। उत्तराखंड की बेटियां आज जब अपने घर में ही सुरक्षित नहीं हैं तो वे बाहर कैसे महफूज़ होंगी। उन्होंने पुलिस प्रशासन पर निशाना साधते हुए कहा कि पुलिस ने इस मामले में लापरवाही बरती है। मृतका के परिजनों को पुलिस कई दिनों तक टालती रही। यदि पुलिस इस मामले को गंभीरता से लेती और उसने अपनी जिम्मेदारी सही ढंग से निभाई होती तो पीड़ित परिजनों को परेशानी न झेलनी पड़ती।

उन्होंने कहा कि इस घटना के लिए बीजेपी और पुलिस प्रशासन दोनों ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि जिस राज्य में डीजीपी ही लापरवाह हों वहाँ अपराधियों के हौंसले बुलंद होना स्वभाविक है। उन्होंने कहा कि इस हत्याकांड ने बीजेपी नेताओं का सच जनता के सामने ला दिया है। अंकिता के हत्यारों में मुख्य आरोपी पुलकित आर्या भाजपा के नेता और पूर्व राज्य मंत्री का बेटा है। उन्होंने कहा कि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का नारा देने वाले लोगों से ही आज देवभूमि की बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि इस मामले में किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाना चाहिए और सभी गुनहगारों को फांसी के फंदे पर लटकाया जाना चाहिए।

Leave a Reply