एक्टिंग के साथ गीत-संगीत में भी हाथ आजमा चुके हैं पीयूष

Entertainment News Room

मुम्बई। गैंग्स ऑफ वासेपुर, गुलाल, तेरे बिन लादेन, द शौकीन्स जैसी चर्चित फिल्मों में अभिनय व गायन का जलवा दिखा चुके पीयूष मिश्रा किसी परिचय के मौहताज नहीं हैं। ग्वालियर के जिंसी राेड क्षेत्र में रहने वाले पीयूष लगभग 24 साल से बॉलीवुड में सक्रिय हैं और सटीक अभियन के साथ संगीत, लेखन, फिल्म एडिटिंग जैसी विधाओं में पारंगत हैं।

सन 1963 में जन्मे पीयूष के पिता सरकारी नाैकरी में थे। बचपन से ही उन्हें एक्टिंग का शौक था और वे कई कलाकारों की नकल किया करते थे। हालांकि अपने इस शौक के कारण उन्हें कई बार पिता की डांट का सामना भी करना पड़ता था। फालका बाजार स्थित कार्मल कान्वेंट स्कूल में पढ़ाई करने के बाद उन्होंने बीएससी फ़र्स्ट ईयर में साइंस कॉलेज में एडमिशन लिया, लेकिन एक्टिंग व लेखन की लत नहीं छूटी।

पढ़ाई के दौरान ही उन्होेंने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में एडमिशन के लिए फार्म भरा। उन्हें एनएसडी बुलाया गया और परीक्षा ली गई। पास होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़कर 1986 में एनएसडी में एडमिशन ले लिया। यहीं उनकी कला को निखार मिला और वह रंगमंच के माहिर अभिनेता बन गए। अभिनय के दौरान उन्होंनेे नाटकों व शॉर्ट फिल्मों की एडिटिंग भी शुरू कर दी। बॉलीवुड की चर्चित फिल्म मकबूल, गुलाल, गैंग्स ऑफ वासेपुर फिल्मों के लिए गीत भी लिखे।

राजकमल पब्लिकेशन ने हाल ही में पीयूष के काव्य संग्रह ‘कुछ इश्क किया, कुछ काम किया’ का प्रकाशन किया है। मिश्रा ने कहा-‘भले ही मैं लम्बे समय से ग्वालियर से दूर हूं, लेकिन आज भी मुझे मेरे शहर की हर बात याद आती है। जब भी कोई दोस्त या रिश्तेदार मुझसे मिलने आता है, तो पुरानी यादें ताजा हो जाती हैं। ग्वालियर से जो भी नए कलाकार बॉलीवुड में काम के लिए आते हैं, मैं उनकी हरसंभव मदद करता हूं।

Leave a Reply